वर्तमान शिक्षा प्रणाली पर निबंध 

भूमिका :-
               शिक्षा व संस्कार एक दूसरे के पूरक हैं । शिक्षा हमें संस्कारों को समझने और बदलती सामाजिक परिस्थितियों के अनुरूप उसका अनुसरण करने की समझ देती है ।
शिक्षा एक ऐसा माध्यम है जो हमारे जीवन को नई विचारधारा देती है । ये हमें एक परिपक्व समाज बनाने में मदद करती है , यदि शिक्षा का उद्देश्य सही दिशा में हो तो ये इंसान को नए प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहित करती है । यदि शिक्षा हमारे उद्देश्यों को पूरा नहीं करती तो , ऐसी शिक्षा का कोई मतलब नहीं है , उसमें आमूल परिवर्तन की आवश्यकता है ।

current education system text image in hindi

सन् 1858 में Indian Education Act बनाया गया था , आज हमारी शिक्षा व्यवस्था इसी कानून पर आधारित है जो लार्ड मैकाले की देन है । भारतीयता को नष्ट कर उसे अंग्रेजियत का जामा पहनाकर हमारी संस्कृति को नेस्तनाबूद करने की जो कुत्सित भावना थी वह आज साकार हो चली है।

वर्तमान शिक्षा प्रणाली के दोष :- 

                वर्तमान शिक्षा प्रणाली के व्यापारीकरण , व्यवसायीकरण , और निजीकरण ने शिक्षा के क्षेत्र को पूरी तरह अपनी जकड़ में ले लिया है । इस बाजार में शिक्षा क्रय - विक्रय की वस्तु बनती जा रही है , जिसे बाजार में निश्चित शुल्क से अधिक धन देकर खरीदा जा सकता है । सामाजिक असंतुलन और विषमता इसका ही दुष्परिणाम है । सामाजिक विज्ञान और मानविकी विषयों की उपेक्षा करना देश की उन्नति के लिए हानिकारक है । पारंपरिक ज्ञान की अवहेलना देश के लिए खतरनाक है ।

निराकरण :-

                शिक्षा पर मुनाफा कमाने पर रोक , धनवान तथा आर्थिक दृष्टि से पिछड़े सभी छात्रों के लिए अच्छी शिक्षा दिलाने का संकल्प , शिक्षा , इन सभी बातों को स्वीकार करे यह अत्यावश्यक है । शिक्षा को राजनीति की दासता से मुक्त करना अनिवार्य है । शिक्षा बाजार नहीं मानव - मन को तैयार करने का उदात्त साँचा है । जितनी जल्दी हम इस बात को समझेंगे उतना ही शिक्षा का भला होगा ।
    गाँधीजी ने शिक्षा के उद्देश्य का सरलीकरण करते हुए कहा था कि , " The aim at education is development at Head , Heart and Hand . " अर्थात् दिल , दिमाग और हाथ की शिक्षा ।
    दुर्भाग्य यह परिभाषा आज हमारी सोच को एकांकी बना रही है । वर्तमान शिक्षा प्रणाली ने हमारी बौद्धिकलब्धि को ही बढ़ावा दिया है । बौद्धिकता व्यक्ति को अहमवादी और तर्कशील बनाती है। 
   हमारा मस्तिष्क बायें भाग से काम करता है । डेनियल गोलमेन के अनुसार भावना बौद्धिकलब्धि की सहचरी है , अतः कहा गया है कि , ' Start from the left and go to the right . '
   आज मस्तिष्क के दोनों भागों की सक्रिय बनाने की आवश्यकता है । भावनाओं को संतुलित रखना और सामाजिक दक्षता के स्तर तक पहुँचाने के लिए आध्यात्मिकता को अपनाना होगा ।

इन्हें भी पढ़ें :-

उपसंहार :-

               प्राचीन भारत ने ज्ञान - विज्ञान के क्षेत्र में जो विश्व को देन दी है उसे वर्तमान शिक्षा प्रणाली का आधार बनाना होगा । समझना होगा कि ' स्वस्थ बीज ही स्वस्थ पौधे को जन्म देता है । मैकाले की कुत्सित सोच के नागपाश से हमें वर्तमान शिक्षा प्रणाली को मुक्त करना होगा इसके लिए शिक्षाविदों , मनीसियों और युवाओं को आगे आना होगा , आने वाली पीढ़ी के समग्र पतन के लिए उत्तरदायी होंगे । 
    बौद्धिकता , भावनात्मकता तथा आध्यात्मिकता इन उपलब्धियों के परिणामस्वरूप ही हम शिक्षा तथा जीवन के लक्ष्य तक पहुँच पाएँगे अन्यथा नहीं । वर्तमान शिक्षा प्रणाली में यह बदलाव अनिवार्य हो गया है । यदि सही कदम ना उठाए गए तो पश्चाताप के अवसर भी प्राप्त नहीं होंगे । आवश्यकता इस बात की है कि शिक्षा के महत्व को हम समझे और यह माने के "भावना और क्रिया के संगम पर ही शिक्षा तीर्थराज - प्रयाग बनती है ।"

"दोस्तों उम्मीद है की आज की यह पोस्ट आपको जरूर पसंद आई होगी अगर आपका कोई सवाल या सुझाव इस पोस्ट से रिलेटेड हो तो कृपया टिपण्णी जरूर करें। "

धन्यवाद।.....!! 

Post a Comment

Previous Post Next Post